पैर के ढांचे में असंतुलन के कारण दर्द

0
118
पैर में दर्द

पैर हमारे शरीर का निचला हिस्सा होता है और इसी पर हमारे शरीर का पूरा ढाचा निर्भर करता है|यह सिर्फ चलने के काम ही नहीं आता बल्कि आघात अवशोषक का काम भी करता है, लेकिन मान लीजिये की पैर की सामान्य बनावट में कुछ गड़बड़ी आजाये या फिर समय के साथ या गलत जीवनशैली के कारण एक पैर दूसरे की तुलना में थोड़ा ऊपर निचे हो जाये तो उसके ऊपर अस्थापित ढांचा यानि की धड़ और गर्दन के हिस्से पे इसका कितना बुरा असर पड़ेगा |इससे पुरे शरीर के ढांचे में असंतुलन आ सकता है और शरीर के अलग अलग जोड़ो में यह दर्द भी पैदा कर सकता है|

आइये इस समस्या के बारे में हम अपने एक्सपर्ट से थोड़ी और गंभीरता से जानते है :-

जैसा की हमारे जिशेसज्ञ ने बताया:-

बहुत से लोगो के पैर का तलवा सपाट होता है लेकिन इसके कारण उन्हें कभी कभी दर्द का अनुभव करना पड़ सकता है लेकिन हम इस बात से भी इंकार नहीं कर सकते है की आगे चल के उन्हें कई अन्य जगहों और जोड़ो में इसके कारण दर्द होता है |

अंदर की तरफ घूमे हुए टखने ही सबसे आम प्रकार की पैर की समस्या है जिससे पैरो के ढांचे असंतुलित हो जाते है

घुटनों और कूल्हों मुख्य रूप से शरीर के वजन के समर्थन के लिए जिम्मेदार हैं क्योंकि हम चलते हैं और खड़े होते हैं। यदि इन अनुभवों की पुरानी दर्द यह हमारे पैरों के काम से संबंधित हो सकती है। कंधों और गर्दन में भी दर्द हो सकता है

आम तौर पर चलते समय या फिर खड़े होने पैर शरीर का सारा भार हमारे घुटनो और कूल्हों पर आ जाता है अगर ये हिस्से काफी समय से दर्द का अनुभव कर रहे है तो हो सकता है की इसका सम्बन्ध  जरूर ही हमारे पैरो के ढांचे में आयी गड़बड़ी से है |इस गड़बड़ी के कारण हम बाहो और गर्दन में भी दर्द महसूस कर सकते है |

पैर के ढांचे में आये असंतुलन से पैर की उंगलियों में भी काफी समस्या आ सकती है जैसे हैमर-उंगलिया |पैर जब शरीर को ठीक तरह से संतुलन नहीं प्रदान कर पाते है या फिर सही प्रकार से शरीर के पुरे भार का वितरण अन्य अंगो में नहीं कर पाते है तो फिर यह हड्डियों और जोड़ो को उनकी सामान्य स्तिथि से हटा देते है और इसके कारण इन हड्डियों और जोड़ो में दर्द की उत्पत्ति होती है |यह समस्या समय के साथ गंभीर होती जाती है और अन्तः शरीर के पुरे ढांचे को नुक्सान पहुँचती है |

हमें खराब चलने की आदतों का पालन नहीं करना चाहिए क्योंकि ये पूरे शरीर में दर्द का अनुभव करने की संभावना बढ़ा सकते हैं। सकारात्मक पक्ष पर, एक सुरक्षित और स्मार्ट चलने वाला आहार संयुक्त समस्याओं को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

हमें अपनी चलने  के तरीके पे विशेष ध्यान देना चाहिए क्युकी अगर अगर हमारे चलने का तरीका सही नहीं है तो यह जोड़ो के दर्द को काफी बढ़ा सकता है |इन सब में एक सकारात्मक बात यह है की अगर कोई अपनी चाल पैर नियंत्रण कर ले तो दर्द की समस्या से काफी हद तक बच सकता है |

पैर की हड्डियों के स्वस्थ संरेखण में सुधर संभव है ऐसा करने के लिए एक प्रशिक्षित विशेषज्ञ से जोड़ो का ऑपरेशन भी कराया जा सकता है और संरेखण में सुधर के लिए पैर का व्यायाम भी असरदार है लेकिन इस कम से कम दिन में तीन बार या फिर एक प्रशिक्षित डॉकटर के दिशानिर्देश के अनुसार ही करना चाहिए

 

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें