मासिकधर्म के दौरान पांच सर्वश्रेष्ठ व्यायाम

0
284

Image result for women working out cartoon

मांसपेसियों में दर्द, थकान, और हमेशा एक बेकार सी अनुभूति -अगर आपको भी ऐसा हो रहा है तो जिम छोड़ने के लिए आपको कोई मना नहीं करेगा बशर्ते आपको मासिक धर्म न हो |सच्चाई तो यह है की अगर आप मासिक धर्म के दौरान व्यायाम करते हो तो इससे आपकी मासिकधर्म की आम समस्याओ का निवारण होता है और तंदुरुस्ती भी रहती है |

ये कुछ व्यायाम आपके मासिकधर्म में सहायक हो सकते है

1.टहलना

Image result for walking

विशेषज्ञ भी मानते है की मासिकधर्म के दौरान कठोर व्यायाम के स्थान पर सिर्फ टहलना चाहिए इससे किसी भी प्रकार की चोट का खतरा कम होता है| इसलिए आलस्य त्याग कर सुबह-शाम टहलने की  आदत डाले

२ नृत्य

Related image

किसी ताल पर नाचना या फिर सिर्फ घूमना ही अपने आप में एक सुखद अनुभव है |आपको मासिक धर्म के दौरान ज़ुम्बा क्लासेज कर लेनी चाहिए या फिर अपनी कमरे या घर में ही किसी संगीत पर घूमना चाहिए इससे बेकार दिन भी खिला खिला लगता है और इसके आलावा यह आपकी कैलोरी भी बर्न करता है |

३ पैर ऊपर उठाना

Image result for leg lifts

मासिकधर्म के दौरान व्यायाम का यह अर्थ नहीं है की आपको बहार जाना ही है |यह व्यायाम करने से आपके पेट, पीठ और श्रोणीय हस्से पर बल पड़ता है और यहाँ की मांसपेशिया ढीली होती है |इस व्यायाम को शुरू करने के लिए पहले चटाई पर लेट जाये फिर अपने पैरो को धीरे धीरे ऊपर उठाये, जब तक की आपके पैर शरीर से ९० डिग्री का कोण न बना ले |इस स्थति को कुछ समय तक रखे फिर पैर नीचे कर ले |

यह पूरी प्रक्रिया ५ से १० बार दोहराये |

४ स्ट्रेचिंग

Image result for stretching

स्ट्रेचिंग मांसपेसियों को लम्बा करता है और इनमे अकड़न होने से रोकता है |ऐसा स्ट्रेच जिसमे आप अपनी कोहनी पेट की तरफ लाते है उससे मासिकधर्म के दौरान होने वाले पीठ के दर्द में काफी लाभ होता है |कृपया गहरी साँसे लेना न भूले ऐसा करने से मांसपेसियों में तनाव काम होता है और पेट के पास गर्माहट पैदा होती है |स्ट्रेचिंग को धीरे धीरे करना चाहिए और कभी भी तनाव के विपरीत जा करके नहीं करना चाहिए |एक स्ट्रेच को कम से कम २० से ३० सेकंड के लिए रोकना चाहिए |

५ बलासना

Image result for The child’s pose period

बलासना एक शांतिदायक आसन है |जिसके करने से पीठ लम्बी होती है और पीठ की अकड़न भी खत्म हो जाती है |इसके कारण पाचन क्रिया भी अच्छी रहती है जिसकी वजह से यह मासिकधर्म में होने वाले दर्द के लिए एक उचित आसन है|इस आसन को करने के लिए चटाई पर झुक कर ऐसे बैठना है ताकि आपके कूल्हे आपके पैरो पर हो और आपकी कोहनी एक साथ जुड़ी हो |आगे झुके ताकि आपकी छाती आपकी जांघो से छू जाये और आपका माथा चटाई से, अपने हाथो को सीधा आगे रखे या अपने बगलो में |१५ सेकंड तक इस स्तिथि को बनाये रखे |

इस व्यायाम के दौरान सांस लेना न भूले ऐसा करने से शरीर में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी, नाक के रस्ते सांस ले और मुँह के रस्ते सांस छोड़े|

 

शेयर करें

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें